फिल्मो के इस कलाकार ने देश के लिए ओलंपिक्स में जीते कई पदक

भारीतय सिनेमा में बहुत से एक्टर मिले जिन्होंने अपने लुक से तो कभी अपनी अलग तरह की एक्टिंग से लोगो का दिल जीता है | ये कलाकार फिल्मों में कभी हीरोइन को गुंडे से बचाते नज़र आते हैं तो कभी हीरोइन के आगे पीछे घूमकर उनका दिल जीतने की कोशिश करते हैं | लेकिन हम बताने जा रहे हैं एक ऐसे एक्टर के बारे में जिन्होंने रील लाइफ में अपने एक सबसे महत्वपूर्ण किरदार के लिए जाने जाते हैं | एक ऐसा किरदार जो हमेशा के लिए अमर हो गया |

इस कलाकार की ख़ास बात ये थी की ये फिल्मों में तो खलनायक की भूमिका निभाते थे लेकिन असल ज़िन्दगी में वो किसी हीरो से काम नहीं थे | देश की शान बढ़ने में उनका महत्वपूर्ण योगदान है | हम बात कर रहे हैं महाभारत के भीम यानि की प्रवीण कुमार की | प्रवीण कुमार द्वारा निभाया गया भीम का किरदार कोई भूल नहीं सकता लेकिन साथ ही साथ उन्होंने बहुत सी बॉलीवुड की फिल्मो में भी छोटे बड़े रोल्स किये हैं | प्रवीण कुमार एक ऐसे कलाकार हैं जिन्होंने ६० और ७० के दशक में देश के लिए एशियाई गमेसा में चार मैडल जीते जिनमें दो स्वर्ण पदक थे | रवीं कुमार अपने लम्बे चोरे और ऊँचे कद के चलते चर्चा में रहते थे | ६० के दशक में डिस्कस थ्रो में १९६६ और ७० में स्वर्ण पदक जीते इसके अलावा भी १९७४ में थेरॉन में हुए एशियाई ओलंपिक्स में भी उन्होंने हिस्सा लिया था |

फिल्म शहंशाह का मशहूर डॉयलोग “रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप होते हैं” भी प्रवीण कुमार के निभाए किरदार मुख्तार सिंह को ही बोलै गया था | महाभारत सीरियल में उनका निभाया भीम का किरदार लोगो को बहुत पसंद आया था | २०१३ में इनका रुझान राजनीति पर भी गया और इन्होने आम आदमी पार्टी से इलेक्शन भी लड़ा लेकिन जीत नहीं पाए इसके बाद २०१४ में भारतीय जनता पार्टी का दमन पकड़ा |

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *